निक जोनास ने प्रियंका संग मनाई अपनी पहली होली, अंबानी की पार्टी में दिखा जबरदस्त अंदाज... देखें Video        कपिल शर्मा के शो पर उड़ा अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का मजाक, हंसी से लोटपोट हुए दर्शक... देखें Video        पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम बोले- येस बैंक को संकट से उभारने की SBI की योजना "विचित्र" New        

प्रो. रमेशचन्द्र त्रिपाठी

प्रो. रमेशचन्द्र त्रिपाठी

पक्का दो कोस रास्ता पैदल चलकर स्कूल में पढ़ने जाया करता हूँ।

मैं अकेला नहीं हूँ, दस-बारह जने हैं। जिनके घर देहात में हैं, उनके लड़कों को अस्सी प्रतिशत इसी प्रकार विद्या-लाभ करना पड़ता है। अत: लाभ के अंकों में अन्त तक बिल्कुल शून्य न पड़ने पर भी जो पड़ता है, उसका हिसाब लगाने के लिए इन कुछेक बातों पर विचार कर लेना काफी होगा कि जिन लड़कों को सबेरे आठ बजे के भीतर ही बाहर निकल कर आने-जाने में चार कोस का रास्ता तय करना पड़ता है, चार कोस के माने आठ मील नहीं, उससे भी बहुत अधिक। बरसात के दिनों में सिर पर बादलों का पानी और पाँवों के नीचे घुटनों तक कीचड़ के बदले धूप के समुद्र में तैरते हुए स्कूल और घर आना-जाना पड़ता है, उन अभागे बालकों को माँ-सरस्वती प्रसन्न होकर वर दें कि उनके कष्टों को देखकर वे कहीं अपना मुँह दिखाने की बात भी नहीं सोच पातीं।

By continuing to use this website, you agree to our cookie policy. Learn more Ok